Periods Problem Solution In Hindi | महावारी लाने के उपाय | अनियमित मासिक धर्म

Irregular Periods Problems Solution In Hindi: महिलाओं में अनियमित मासिक धर्म, [Irregular Periods Problem In Hindi] और समय पर महावारी लाने Monthly Periods Problems And Solutions के उपाय पर बात करेंगे| कुछ माता और बहनों में Periods Me Blood Kam Aana और Periods ka khul kar na aana, मासिक धर्म में Kam रक्तस्राव ऐसी दिक्कतें बहुत ज़्यादा देखने को मिल रही हैं.

Periods Problem Solution In Hindi

आजकल की भाग दौड़ से भरी ज़िंदगी में महिलाओं के लिए मासिक धर्म के समय चक्र की ये एक आम समस्या बनकर रह गयी है. और आप ताज्जुब करेंगे कि ये खासकर नयी उम्र की लड़कियों में ज्यादा देखने को मिल रहा है.

गाँव की अपेक्षा शहर में रहने वाली युवतियों में ये समस्या ज्यादा पायी जाती है. Masik Dharm Ka Kam Aana या बिलकुल न आना एक गंभीर समस्या (Serious Problem) है. चलिए अब जानते हैं कि अनियमित मासिक धर्म क्या होता है और इससे कैसे बचें.

अनियमित मासिक धर्म क्या है? | Aniyamit Masik Dharm

Irregular Periods Problem (अनियमित मासिक धर्म) एक बहुत परेशानी वाली समस्या है. अगर आप गर्भवती नहीं हैं और  माहवारी निश्चित समय पर नहीं होती तो इसे ही अनियमित मासिक धर्म कहते हैं.

कभी कभी या तो जल्दी हो जाती है या फिर देर से होने लगती है. महिलाओं में मासिक धर्म आने का समय गड़बड़ हो जाता है, तो ऐसे में उनको बहुत परेशानी उठाना पढ़ती है.

देश की अधिकतर महिलाओं में ये समस्या पायी जाती है| कई बार गलत खान पान और बाज़ार में अधिक मात्रा में ‘जंक फ़ूड’ खाने की वजह से भी ये दिक्कत हो सकती है.

Aniyamit Masik Dharm

अनियमित मासिक धर्म

Irregular Periods Symptoms| अनियमित मासिक धर्म के लक्षण

  • मासिक धर्म में कम रक्तस्राव
  • मासिक धर्म का न आना
  • रुक-रुक कर मासिक धर्म का आना
  • वक्षस्थलों में दर्द होना
  • माहवारी खुलकर न आना
  • सही तारिख पर मासिक धर्म का न आना

आमतौर पर महीने से सम्बंधित Irregular Periods होने के कारण, नौकरी करने वाली युवतियों और महिलाओं को बड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ता है.

आधुनिक जीवन के इस दौर में आजकल ये एक आम समस्या हो गयी है. महिलाओं या फिर नयी उम्र की लड़कियों (Teenage Girls) में अनियमित मासिक आने की समस्या उनकी गलत दिनचर्या और गलत खान-पान की आदतों की वजह से होता है.

देर रात तक जागना या फिर सुबह देर तक सोने अथवा बाज़ार में, अधिक मात्रा में जंक फ़ूड का सेवन करने से भी ये हो सकता है. मासिक चक्र अनियमित होने की वजह से महिलाओं के शरीर में अन्य Infection या फिर दूसरी बीमारियाँ होने का जोखिम भी बढ़ सकता है.

मासिक चक्र अनियमित होने के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं

  1. जल्दी थकान महसूस होना
  2. चक्कर आना
  3. नाभी के नीचे दर्द होना
  4. कष्टदायक माहवारी होना
  5. भूख नहीं लगना, या कम लगना
  6. चिड़चिड़ापन रहना
  7. खुलकर मासिक धर्म न आना

Periods Kitne Din Chalta Hai | पीरियड्स कितने दिन चलता है?

आमतौर पर Irregular Problem एक आम समस्या है. जो अधिकतर युवतियों और महिलाओं में हो जाती है. अगर मासिक पीरियड्स न आए तो, इनके शरीर में कई तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी बीमारियाँ या फिर किसी प्रकार का गुप्त रोग होने का जोखिम बना रहता है.

साधारण तौर पर Periods किसी भी युवती या महिला को 2 से चार दिन तक के लिए आते हैं. लेकिन कभी कभी ये पूरी तरह से भी सही नहीं हो सकते.

इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि महिलाओं में पीरियड आने की समय अवधी, उनके Harmon’s पर भी निर्भर करती है|.यदी किसी महिला में प्रोजेस्टेरोन हार्मोन (Progesterone Hormone) (1) ज़्यादा पाए जाते हैं तो उसको जल्दी पीरियड आने की संभावना हो सकती है.

लेकिन यहाँ एक बात और है कि महिला में प्रोजेस्टेरोन हार्मोन कितना भी ज्यादा हो उसके Periods आने का समय एक निश्चित होता है. मतलब उसे हर महीने की एक निर्धारित डेट को मासिक धर्म आ जाएगा.

अगर उसमे Harmon (हार्मोन) सामान्य है, तो मासिक पीरियड्स 2 से 4 दिन तक चलता है. यदी हार्मोन ज़्यादा हों तो, मासिक धर्म 2 से लेकर 7 दिन तक चल सकता है.

आपको 7 दिन से ज़्यादा तक Periods आते हैं, तो ये चिंता का विषय है. बिना देरी किये आप, अपना मेडिकल चेकअप किसी काबिल महिला डॉक्टर से करवाएं.

मासिक धर्म रुकने के कारण

सबसे ज्यादा मासिक धर्म (Period’s) की परेशानी उन लड़कियों में या महिलाओं में अधिक होती है जो आलसी होती हैं. इसलिए इस बात का थोड़ा ध्यान रखें.

अगर आपका शरीर बहुत आलसी है और आप कुछ काम (House Work) नहीं करतीं सारे दिन आराम करतीं रहतीं हैं तो आज से ही यह सब त्याग दें, और महिलाओं की कमजोरी दूर करने के उपाय इस पोस्ट को ज़रूर देख लें.

अपनी छमता के अनुसार घर के छोटे-मोटे कामकाज (Work) जरूर किया करें. जिससे आपका मासिक धर्म चक्र सुचारु रूप से काम करता रहे.

यही कारण है कि शहर (City) की अपेक्षा गाँव (Village) की लड़कियों में मासिक धर्म रुकने की समस्या, बहुत कम या कहें तो न के बराबर पायी जाती है.

मासिक धर्म के रुक जाने का एक प्रमुख कारण यह भी है, जिनको शरीर में खून की कमी हो या फिर मैथुन दोष हो तो माहवारी का समय चूक सकता है.

कभी-कभी कुछ महिलाएं, युवतियां महावारी के समय ज्यादा ठंडी (Cold Food) चीजों का सेवन कर लेती हैं तो ये भी मासिक चक्र को अनियमित कर सकता है.

ज़्यादा समय तक ठंड (Cold) में रहने के कारण या ठण्ड लग जाने की वजह से, महिलाओं का मासिक धर्म या तो Irregular हो जाता है या फिर रुक जाता है| इसके अलावा बहुत अधिक समय तक स्वीमिंग पूल में नहाना या देर तक बारिश (Rain Water) में भीगना भी एक वजह हो सकती है.

1st Period After Marriage In Hindi | शादी के बाद पहला पीरियड

शादी हो जाने के बाद कुछ युवतियों के पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं. सामान्य तौर पर ऐसा देखा जाता है| इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि शादी के बाद लड़की को एक बदले हुए नए माहौल में ढलना होता है.

ससुराल जाने के बाद After The Marriage लड़की को शारीरिक जिम्मेदारी के साथ साथ, उसको कई तरह की पारिवारिक और मानसिक जिम्मेदारियों का बोझ उठाना पड़ता है.

1st Period After Marriage

1st Period After Marriage In Hindi

और ये भी एक वजह हो सकती है कि एकदम से बदले हुए माहौल के हिसाब से आपका शरीर उसके अनुकूल ढल नहीं पाता तो ऐसी दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है.

जब नई शादी होती है तो पति-पत्नी अपनी यौन इच्छाएं (Orgasm) शांत करने के लिए कई बार शारीरिक संबन्ध बनाते हैं. इस वजह से भी उसका मासिक धर्म अनियमित हो सकता है.

मासिक धर्म की समस्या क्यों होती है?| Irregular Periods Treatment In Hindi

मासिक धर्म (Periods) कई तरह से प्रभावित हो सकता है. इसके रुकने के कुछ ये कारण हो सकते हैं, जैसे कि बहुत ज़्यादा पैदल चलना, मन में किसी प्रकार की दुःखद भावना Tension रखना, मानसिक परेशानी और क्लेश होना.

अत्यधिक शोकाकुल होना या अत्यधिक क्रोधित होना भी Irregular Periods  का कारण बन सकता है.

एक खास बात यहाँ ध्यान देने वाली यह भी है कि आप समय पर खाना खाएं, बाज़ार के फ़ास्ट फ़ूड (Junk Food) खाने से बचें, ताली हुयी चीजों से परहेज़ करें.

मासिक धर्म के रुक जाने की पहचान कैसे करें?

जब आपका Period (मासिक धर्म) रुक जाता है, या उसमें किसी प्रकार की गड़बड़ी (Irregular) होती है तो आप मासिक धर्म के रूक जाने की पहचान इस तरह से कर सकती हैं.

कभी-कभी मासिक धर्म रुकने के कारण, आपके गर्भाशय के हिस्से में दर्द होना शुरु हो जाता है.

अनियमित मासिक धर्म (Irregular Periods ) की समस्या जिसको होते है उनको भूख बहुत कम लगती है या बिलकुल भी नही लगती.

पेट में कब्ज़ ( Acidity) होना या दस्त लगने की शिकायत हो जाती है.

स्तनों में दर्द होता है. और उल्टी आना, जी मचलाना, सांस लेने में तकलीफ होना या घबराहट होना, दिल धड़कना इस तरह के लक्षण Irregular Period, या मासिक धर्म के रूक जाने की पहचान होते हैं.

Irregular Periods Treatment In Hindi

Irregular Periods Treatment In Hindi

कभी-कभी लड़कियों के कान में तरह-तरह की आवाजें सुनाई पड़ने लगती हैं.

रात में ठीक तरह से नींद भी नहीं आती. पेट में हल्का या थोड़ी थोड़ी देर में तेज़ दर्द होता रहता है.

शरीर में जगह-जगह सूजन जैसी आ जाती| मानसिक तनाव (Stress) होने लगता है और चिडचिडापन बढ़ जाता है.

किसी से बात करने का मन नहीं होता|

मासिक धर्म चक्र अनियमित (Irregular) हो जाने पर हाथ पैर टूटने लगते हैं.

विशेषकर कमर में दर्द बना रहता है. गले में खराश होना और आपका पूरा शरीर बेहद थका-थका सा महसूस होने लगता है.

प्रसूता स्त्रियों में दूध (Breast Milk) बिल्कुल कम निकलने लगता है.

यह सभी मासिक धर्म के रुकने के लक्षण (Symptoms) होते हैं.

अनियमित माहवारी और गर्भावस्था

मासिक धर्म (Period) महिलाओं में होने वाली एक सामान्य और स्वाभाविक Natural प्रक्रिया होती है.

अगर मासिक धर्म में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी या अनियमितता हो जाय तो, महिलाओं में दूसरी; बीमारियाँ पैदा होने की संभावना Possibility बढ़ जाती है.

इसीलिए इसको कभी भी हलके में न लें| और तुरंत इसका इलाज करें.

अनियमित मासिक धर्म (Irregular Period) के होने की एक वजह यह भी होती है.

अगर किसी के शरीर के भीतरी हिस्से में भी उनको किसी प्रकार का रोग हो, तो भी इस; वजह से भी महिलाओं में माहवारी की अनियमितता हो सकती है.

अगर महिलाओं में मासिक धर्म सुचारु रुप से Regular नहीं चलता तो उससे इनके उनके मातृत्व; जीवन Pregnancy पर असर पड़ सकता है. और वे माँ बनने के सुख से वंचित रह जाती हैं.

अनियमित माहवारी का घरेलू इलाज | Home Remedies For Irregular Periods

  • 3 ग्राम काली मिर्ची (Black Pepper) का चूर्ण शहद (Honey) के साथ चाटने से कुछ ही समय में रुके हुए मासिक धर्म को चालू कर देता है
  • रुके हुए मासिक धर्म को चालू करने के लिए प्रतिदिन एक छोटा चम्मच दूब (Couch grass) (2) का रस पिया करें
  • 2 सप्ताह तक ग्वारपाठे का रस, प्रतिदिन भूखे पेट सेवन करने से अनियमित महावारी सही हो जाती है
  • रुकी हुयी महावारी चालू करने के लिए रोज़ कच्चे पपीते का सेवन करें, इससे मासिक धर्म खुलकर आने लगता है
  • महिलाओं में अधिकतर Vitamin-D की कमी पाई जाती है, अपने आहार में इसको ज़रूर शामिल करें
माहवारी जल्दी लाने के घरेलू उपचार

Home Remedies For Irregular Periods

Home Remedies For Irregular Periods: अनियमित महावारी को आप घरेलू नुस्खों द्वारा भी ठीक कर सकते हैं.

इसका सबसे बड़ा फायदा ये है कि घरेलू नुस्खों (Home Remedies) के द्वारा किया गया इलाज; किसी भी तरह का नुकसान (Side Effect) नहीं करता.

आपके लिए कुछ घरेलू नुस्खे अनियमित माहवारी के लिए बताये जा रहे हैं. अगर आप इन्हें; आजमाएंगे तो निश्चित रुप से आपकी महावारी की समस्या का इलाज हो सकता है.

माहवारी खुलकर आने के लिए घरेलू उपाय

जिन महिलाओं को खुलकर माहवारी (Periods Natural Process) नहीं आती उन्हें इस घरेलू नुस्खे को आजमाना चाहिए.

  • 10 ग्राम तिल और 2 ग्राम काली मिर्च और दो छोटे पीपल ले लें.
  • अब इन तीनों में थोड़ी शक्कर (Sugar) मिला लें, और इनका उबालकर अच्छी तरह काढ़ा बना लें.
  • इस काढ़े को ठंडा हो जाने पर छानकर पियें.
  • ऐसा सप्ताह में 2 से तीन बार करें.

इस तरह का काढ़ा पीने पर आपको मासिक धर्म (Period) खुलकर आने लगता है.

अनियमित माहवारी Irregular Period की समस्या भी ठीक हो जाती है.

महावारी से जुड़ी कोई दूसरी Other परेशानी या समस्या हो तो वह भी ठीक हो जाती है.

इर्रेगुलर पीरियड्स ट्रीटमेंट | Irregular periods Treatment [Home Remedies]

महिलाओं में अगर अनियमित Masik धर्म की समस्या है, तो इस देसी घरेलू नुस्खे द्वारा; मासिक धर्म (Period) को नियमित किया जा सकता है.

आपको यहां जो देसी घरेलू नुस्खा बता रहे हैं इसके लिए आपको इन सामग्री की ज़रुरत पड़ेगी.

  • सोंठ
  • बायबिडंग
  • जौ
  • देसी गुढ़

सबसे पहले आप 50 ग्राम सोंठ ले लें, और 30 ग्राम के लगभग गुढ़ और 5 ग्राम बायविडंग; तथा 5 ग्राम जौ. इन सबको मिलाकर दरदरा यानी के मोटा सा कूट लें.

इसमें एक गिलास पानी मिलाकर इसको अच्छे से उबालें. और जब पानी आधा रह जाए; तो इस काढ़े का ठंडा होने के बाद सेवन करें.

इस Desi Nuskhe से आप का रूका हुआ मासिक धर्म खुलकर आने लगता है|

बरगद, मैथी और काली मिर्च से महावारी लाने के उपाय

बरगद, Banyan Tree मतलब बड़ का पेड़ जिसकी लंबी-लंबी जटाएं लटकी रहती हैं.

वह जटाएं और मैथी व कलौंजी यह तीनों चीजें एक समान मात्रा में तीन-तीन Gram के लगभग इन; सारी चीजों को मिलाकर मोटा दरदरा कूट लें.

अब इस में दो गिलास पानी मिलाकर इसका काढ़ा बना लीजिये.

जब पानी लगभग आधा या इससे कम रह जाए तो इस पानी को छानकर Filter कर उसमे ज़रुरत; के हिसाब से थोड़ी Sugar मिला लें.

और ठंडा होने के बाद इस पानी को पीयें.

इस Gharelu Nuskhe से आप की रुकी हुई महावारी (Period) खुलकर आने लगती है.

और महावारी से संबंधित समस्याएं भी सही हो जाती हैं.

Monthly Periods Problems And Solutions

Monthly Periods Problems And Solutions

दोस्तों आपको हमारे ब्लॉग Health Tips In Hindi की यह अनियमित मासिक धर्म पर जानकारी वाली; पोस्ट कैसी लगी हमें ज़रूर बताएं.

अगर आपका कोई सवाल हो तो हमारे फेसबुक पेज या नीचे कमेंट बॉक्स में ज़रूर पूछें.

इस पोस्ट को अपने फेसबुक प्रोफाइल पर जरुर शेयर करें क्योंकि बहुत सारी लड़कियों में व; महिलाओं में माहवारी की समस्या ज्यादातर पाई जाती है, और वह संकोचवश इस बात को खुलकर नहीं कह पाती हैं.

तो हो सकता है यह पोस्ट उन के लिए एक बेहद आसान और कामगार उपाय साबित हो सकती है.

People Also Searches For Related To Periods Problems Solution

  • Monthly Periods Problems And Solutions
  • Period L:ane ke gharelu upay in hindi language
  • Masik periods jaldi aane ki tablet
  • Periods Jaldi Aane ka Reason
  • Period Aane ke Gharelu Nuskhe In Hindi

Leave a Reply