क्रैनबेरी के फायदे और नुकसान | (करोंदा ) Cranberry Health Benefits In Hindi

क्रैनबेरी के फायदे: क्रैनबेरी (Cranberry) एक तरह का अम्लीय जामुन जैसा फल होता है. इसे हिंदी में करोंदा भी कहा जाता है. इसके बारे में बहुत ही कम लोगों को पता है कि क्रैनबेरी के कितने फायदे हैं.

क्रैनबेरी का जूस भी पीने में बहुत अच्छा लगता है और ये हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता है. सबसे पहले करोंदे की खेती उत्तरी अमेरिका (North America) में की गयी. वहां के लोगों ने इसको बड़े पैमाने पर उगाना शुरू किया था.

यह सदाबहार झाड़ियों पर लगता है.  आम तौर पर करोंदे की झाड़ियाँ 2 से 8 फुट तक की ऊंचाई की होती है. यानि कि इसे घरों के बगीचों में भी लगाया जा सकता हैं.

Cranberry Health Benefits in Hindi | क्रैनबेरी के स्वास्थ्य लाभ

Health Benefits Of Cranberry In Hindi

क्रैनबेरी के फायदे

क्रैनबेरी जूस के फायदे | Health Benefits Of Cranberry Juice in Hindi

क्रैनबेरी का फल दिखने में बहुत छोटा सा होता है. यह दिखने में गहरे गुलाबी (Dark Pink) या लाल रंग का होता है. जो दिखने में खूबसूरत भी लगते हैं.

जब आप करोंदा (Cranberry) खाते है तो आपको हल्का मीठा स्वाद आता है. यह कई तरह के रोगों (Diseases) से लड़ने में हमारी मदद करता है, जैसे.

  • यूरीन इन्फेक्शन में फायदा करता है.
  • दिल की बीमारियों के लिए फायदेमंद है.
  • कैंसर में फायदेमंद है.
  • वज़न घटाने में सहायक.
  • इम्युनिटी सिस्टम को मज़बूत करता है.
  • पाचन क्रिया को सही करता है.

करोंदा में कई तरह के पोषक तत्वों (Nutrients) की भरमार होती है. यह अपने प्रतिउपचायक (Antioxidant) गुणों के चलते सुपर फ़ूड के तौर पर गिना जाता है.

करोंदा कई तरह की शारीरिक समस्याओं (Physical Problems) से निजात दिलाने में सहायक होता हैं.

आम तौर पर करोंदे का सेवन करने के लिए इसे कई तरह से उपयोग किया जाता है. जैसे- करोंदा का अचार, करोंदे की सब्जी और करोंदे का जूस आदि के रूप में इसका इस्तेमाल घरों में किया जाता है.

Cranberry (क्रैनबेरी) से बने कई तरह के प्रोडक्ट्स (Products) भी मार्केट (Market) में आसानी से उपलब्ध होते है.

क्रैनबेरी सॉस (Cranberry sauce), क्रैनबेरी ड्रिंक्स (Cranberry Drinks) और ड्राई क्रेनबेरी (Dried cranberry) के रूप में इसे इस्तेमाल किया जाता है.

मूत्र मार्ग संक्रमण में करोंदे के फायदे | UTI Health Benefits Of Cranberry

Cranberry का सेवन करने से इसके औषधीय गुण कई विकारों से लड़ने में मदद करते है.

करोंदा मूत्र पथ संक्रमण (Urinary Tract Infection), हृदय रोग (Heart Disease), कुछ तरह के कैंसर.

श्वसन संबंधी परेशानी में, गुर्दे की पथरी और रक्तचाप जैसे समस्याओं में रामबाण इलाज के तौर पर काम करता हैं.

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (Urinary Tract Infection) को रोकने में क्रैनबेरी काफी मददगार साबित होता है.

लगभग 60 फीसदी महिलाओं को अपने जीवनकाल में इस आम बीमारी का सामना करना पड़ता है.

इसमें काफी दर्द का अनुभव होता है. कई शोध बताते है कि शुद्ध क्रैनबेरी फल और कुछ खास कैप्सूल इस समस्या; से काफी हद तक राहत दिलाते हैं. (1)

हृदय रोग | Heart Disease

क्रैनबेरी के जूस में एंटीऑक्सीडेंट के गुण होते है जो कि कोलेस्ट्रॉल घटकों को सुधारने और हृदय रोग से लड़ने में फायदेमंद होते हैं.

न्यू ऑरलियन्स में आयोजित अमेरिकन केमिकल सोसायटी की बैठक में पेश किये गए एक अध्ययन के अनुसार क्रैनबेरी रस का सीधा प्रभाव कोलेस्ट्रॉल के स्तर पर देखा गया.

इसके अनुसार क्रैनबेरी रस दिन में दो गिलास एचडीएल अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा देता है.

करोंदा एलडीएल, खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर देता है.

अध्ययन के अनुसार रक्त में एंटीऑक्सिडेंट में एक महत्वपूर्ण वृद्धि भी देखी गई है. (2)

कैंसर के लिए क्रैनबेरी | Cranberry For Cancer

करोंदा कुछ तरह के कैंसर से लड़ने में भी मदद करता है.

कई शोध के अनुसार यह ट्यूमर के बढ़ने की गति को धीमा कर देता हैं.

करोंदा को लिवर, स्तन, प्रोस्टेट, अंडाशय और कोलन कैंसर के विरुद्ध मददगार पाया गया है.

स्कर्वी का उपचार | Treatment of Scurvy

स्कर्वी (Scurvy) विटामिन सी (Vitamin C) की कमी से होने वाला रोग है.

करोंदा में विटामिन सी अच्छी मात्रा में पाया जाता है.

इसी के चलते करोंदा स्कर्वी से लड़ रहे लोगों के लिए बेहद फायदेमंद होता है.

साथ ही इसके सेवन से शरीर को विटामिन सी अच्छी मात्रा में मिलता है, जो और भी कई कार्य जैसे कोलेजन बनाने और दांतों को मजबूत करने में भी मदद करता हैं.

वजन कम करने में

करोंदा वजन कम करने में भी फायदेमंद होता है. क्रैनबेरी में प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है.

जब हम क्रैनबेरी का सेवन करते है तो इसमें मौजूद फाइबर हमें काफी वक्त तक भूख नहीं लगने देता.

यानि कि यह आपकी अनियमित भूख पर नियंत्रित रखता है. इसका यही गुण वजन कम करने में सहायक होता है.

करोंदे के नुकसान

Cranberry (क्रैनबेरी) के फायदे तो बहुत हैं लेकिन इसके आपने कुछ नुकसान भी होते हैं.

इस खट्टे फल का इस्तेमाल कम मात्रा में सावधानीपूर्वक ही करना चाहिए.

  • मूत्र प्रणली के संबंध में ध्यान देने वाली बात यह है कि इससे संबंधित सभी विक;रों का निपटारा सिर्फ करोंदा फल से नहीं किया जा सकता हैं.
  • अगर आप Interstitial Cystitis (इंटरस्टिशियल सिस्‍टाइटिस) से पीड़ित है तो इसका उपयोग करने से बचे. Interstitial Cystitis में मूत्र त्याग के समय तेज दर्द होता हैं.
  • करोंदे का जूस भी कम मात्रा में लेना चाहिए. अगर आप अधिक मात्रा में इसका सेवन करते है तो यह अपने दां;तों की लेयेर (Layer) को कमजोर बना देता हैं.
  • मधुमेह और पेट से संबंधित रोग से पीड़ित लोगों को क्रैनबेरी के जूस का से;वन करते वक्त सावधानी रखना चाहिए.
  • अगर ऐसे रोगों से पीड़ित लोग इसके जूस का सेवन करते है तो पेट की समस्या, दस्त व उच्च रक्त शर्करा (High Blood Sugar) का स्तर बढ़ सकता हैं.

करोंदा (क्रैनबेरी) का जूस दिल से जुड़े रोगों में दी जानी वाली कुछ खास तरह की दवाओं के प्रभाव को प्रभावित कर सकता है.

इसलिए करोंदा का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरुर लें.

Leave a Reply