बार बार पेशाब आना बन सकता है जानलेवा रोग, देखें इसके कारण व इलाज

Bar Bar Peshab Aana एक आम समस्या है. अंग्रेज़ी में इसको Frequent Urination कहा जाता है. खासतौर पर सर्दियों के मौसम में ये अधिक होती है. लेकिन कभी-कभी बहुमूत्र की ये समस्या किडनी रोग होने का संकेत भी हो सकती है, इसीलिए इसको नज़रंदाज़ न करें.

आमतौर पर बुजुर्गों में ये समस्या ज़्यादा पायी जाती है. मूत्राशय में इन्फेक्शन भी एक कारण हो सकता है. इस रोग को युरीनरी ट्रेक्ट इन्फेक्शन (Urinary Tract Infection) कहते हैं. यह एक बहुत ही गंभीर समस्या हो सकती है. इसीलिए तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना ज़रूरी है.

पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में, लगभग 50 प्रतिशत महिलाओं को जीवन में एक बार मूत्र मार्ग में इन्फेक्शन ज़रूर होता है (1). या कुछ महिला या युवतियों में ये बार बार होता है.

शारीरिक संबंध, और इनके मूत्राशय की रचना की वजह से ऐसा होना आम बात है. इससे बचने के लिए पुरुष या महिलाओं को पेशाब करने के बाद अपना मूत्र मार्ग पानी से ज़रूर धोनी चाहिए.

Bar Bar Peshab Aane Ka Rog

बार बार पेशाब आने की समस्या

मूत्राशय के अधिक सक्रिय होने की वजह से हमारे शरीर में यूरिन की मात्रा बहुत अधिक हो जाती है.

इसी वजह से बार बार पेशाब आने लगता है.

इसे बहुमूत्र रोग कहा जाता है. सामान्य तौर पर ये समस्या छोटे छोटे बच्चो में ज़्यादा होती है.

वयस्कों में इस तरह की दिक्कत को हलके में नहीं ले सकते. इसके होने के कई कारण हैं, जिन्हे जानना आपके लिए बहुत जरूरी है.

बार बार पेशाब आना, कारण व इलाज | Frequent Urination in Hindi

  • बहुत ज़्यादा चाय या कॉफ़ी पीने से
  • अधिक मात्रा में पानी या कोल्ड ड्रिंक पीने की वजह से
  • डायबिटीज रोग होने पर बहुमूत्र होना आम बात है
  • किडनी रोग के कारण
  • किसी ख़ास दवा के लेने की वजह से भी
  • प्रोटेस्ट ग्रंथि बढ़ जाने के कारण

ज़्यादातर पेशाब आने की समस्या डायबिटीज के लोगो में भी होती है.  मतलब की जिन लोगो को मधुमेह की समस्या होती है उन्हें बार बार पेशाब आता ही है.

इसके और भी कई कारण हो सकते हैं, जैसे बहुत चाय कॉफी पीते रहना.

ज्यादा ठंडे पानी का सेवन करने से भी बार बार पेशाब आने की समस्या हो सकती है.

यदि किसी अन्य रोग की दवा ले रहे हैं, जैसे सर्दी, ज़ुकाम या सिरदर्द के लिए जो दवा आप लेते हैं.

इसके कारण भी शरीर में अधिक मात्रा में पेशाब बनने लगता है. और आपको बार बार पेशाब जाना पड़ता है.

Bar Bar Peshab Aane Ke Upay

ज़्यादा चाय या कॉफ़ी का सेवन करने से बहुमूत्र की समस्या होती है

पेशाब में जलन होने की वजह या फिर यूरिन डिसऑर्डर की वजह से भी बार बार पेशाब जाने की समस्या हो सकती है.

यदि आप इस बीमारी का सही समय पर पता लगा लेते हैं, और समय रहते इस बीमारी का इलाज करते हैं, तो आप इस बीमारी से जल्द मुक्ति पा सकते हैं. ये बीमारी आसानी से दूर हो जाएगी.

गर्भावस्था में बार बार पेशाब जाना | Frequent urination during pregnancy

प्रेग्नेंट महिलाओं को भी बार बार पेशाब आता है. प्रोटेस्ट ग्रंथि के बढ़ने पर भी बहुमूत्र होने की समस्या हो जाती है और रोगी को बार बार पेशाब करने भागना पड़ता है.

पेट में किसी गड़बड़ के चलते या फिर पेट में कीड़े पढ़ जाने पर भी बार बार पेशाब आता है. इस वजह से आपके शरीर में पानी की कमी भी हो सकती है.

इसकी वजह से आपके शरीर में पानी का लेवल बहुत कम हो जाता है. परिणामस्वरूप सर दर्द होना, चक्कर आना जैसी आम समस्याओं से आप घिर जाते हैं.

कई बार ऐसा भी होता है कि थोड़ी थोड़ी देर में पेशाब कम-कम करके कुछ बूंदों में आता है. और हर 5 मिनिट में आपको बाथरूम जाना पड़ता है.

पेशाब खुलकर आने के लिए क्या करें?

जब आपको ऐसा लगे की पेशाब खुलकर नहीं आ रहा है, तो इसके लिए आप एक घरेलू उपाय कर सकते हैं. इससे आपको किसी तरह के साइड इफ्फेक्ट का भी खतरा नहीं है.

  1. 500 ML. (आधा किलो) पानी में 100 ग्राम प्याज के टुकडे़ डालकर उबालें
  2. जब अच्छी तरह से उबल जाये तो इसे छानकर शहद मिला लें
  3. रोजाना 3 बार सुबह, दोपहर और शाम को लेने से पेशाब खुलकर, बिना कष्ट के आने लगता है

ये घरेलू नुस्खा बार बार पेशाब जाना ठीक करता है. यदि पेशाब बन्द भी हो गया हो तो वह भी आने लगता है.

  • गर्म दूध में गुड़ मिलाकर पीने से भी मूत्राषय के रोगों में लाभ होता है. पेशाब साफ और खुलकर आता है. रूकावट दूर होती है. यह रोज, एक गिलास दो बार पीयें.
पेशाब में जलन का उपचार

गर्म दूध में गुड़ मिलाकर पीने से मूत्र रोगों में लाभ होता है

किसी के पेट में बहुत ज्यादा कीड़े पड़ गए हैं तो, उनको भी बार बार पेशाब आने की समस्या हो सकती है.

ये एक मौसमी समस्या भी है. जो लोग ठन्डे बातावरण में रहते हैं उन्हें अक्सर ज़्यादा पेशाब आता है.

उन्हें बहुमूत्र जैसी समस्या होना बहुत आम बात हो जाती है.

बहुमूत्र के रोग में कुछ घरेलू उपाय

मूत्र मार्ग के संक्रमित होने से भी बार बार पेशाब आने लगता है.

बैक्टीरिया का पेट से मूत्र मार्ग में पहुंचना भी एक मुख्य कारण है.

यदि आपको को भी इन कारण के वजह से बार बार पेशाब आने की समस्या होती है, तो आप खुद भी इसका इलाज घर पर कर सकते हैं.

यह एक बहुत ही आसान और घरेलू उपाय है, जो की आपके लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद हो सकता है.

इसकी मदद से आप बिना डॉक्टर के पास जाय बार बार पेशाब आने जैसी समस्या को खत्म कर सकते हैं.

  • चाय और कॉफी का ज़्यादा सेवन बंद कर दें
  • शराब या बीयर का सेवन करते हैं तो इन दिनों में इन सबसे दूर ही रहें
  • पीने के लिए ठन्डे पानी का इस्तेमाल बिलकुल न करें
  • ज़्यादा तेज़ मिर्च मसाले वाले वाली चीज़ें और तीखा भोजन न खाएं
  • कोल्ड ड्रिंक में ऐसे एसेंस होते हैं जिनकी वजह से बहुत पेशाब आता है, इसे पीने से भी बचें

लेकिन यदि आप इन चीजों के आदी हो चुके हैं, तो आप इनका सेवन बहुत ही कम मात्रा में करें.

इन उपायों से कुछ हद तक निश्चित ही फायदा होगा.

दही, पालक, तिल, अलसी, मेथी की सब्जी आदि का रोजाना सेवन करना भी इस समस्या में फायदेमंद साबित होता है.

पेशाब में जलन होने पर घरेलू उपाय

हरे धनिए की पत्तियों का रस दो चम्मच लें और इसमें एक चम्मच शक्कर मिला लें.

इस दवा को दिन में कम से कम 3-4 बार लें.

यदि एक बार देने से कोई लाभ न हो तो अगले दिन दुबारा भी दें.

ऐसा उपाय आप 2-3 दिन या इससे भी ज़्यादा कर लेते हैं, तो आपको खुद अंतर मालूम हो जायेगा.

और आपको बार बार पेशाब आना भी बंद हो जायेगा.

अगर आपको शुगर की बीमारी है तो इसको लेने से पहले एक बार डॉक्टर से अवश्य परामर्श कर लें.

पेशाब में जलन उपाय

पेशाब में जलन होने पर धनिये की पत्ती से घरेलू उपाय

बहुमूत्र और पेशाब में जलन का एक और उपाय

  • पिशाब में जलन होने पर आप अजवाइन को नमक के पानी में धोकर पीएं
  • दिनभर में कम से कम दो बार इस प्रक्रिया को करें

आपको ऐसा कुछ ही दिनों तक करना है. कुछ ही दिनों में आपकी बार बार पेशाब आने की परेशानी दूर हो जाएगी.

आंवला से बहुमूत्र का उपचार

  • आंवले का चूर्ण बनाकर गुड़ के साथ मिलाकर खाएं, आपको पेशाब खुलकर आने लगेगा.
  • बार बार पेशाब जाने की झंझट से मुक्ति मिल जाएगी
  • रोजाना अपने नाश्ते में दो पके हुए केले का सेवन करें

कुछ ही दिनों में आपकी बार बार पेशाब के लिए जाने की समस्या दूर हो जाएगी.

बार बार पेशाब आना और जलन होना

आंवला से बहुमूत्र का उपचार

जीरा और चीनी

दोनों को समान मात्रा में पीसकर दो चम्मच तीन बार फँकी लेने से रुका हुआ पेशाब भी खुल जाता है.

नीबू के बीजों को पीसकर नाभि पर रखकर ठण्डा पानी डालें. इससे रुका हुआ पेशाब होने लगता है.

और एक बार में आपको आराम मिला जायेगा. और आपको बार बार पेशाब के लिए भागना नही पड़ेगा.

सूखे आंवले को पीसकर इसका चूर्ण बना लें और इसमें गुड़ मिलाकर खाएं.

इससे बार-बार पेशाब आने की समस्या में लाभ होगा.

विटामिन सी से भरपूर चीजों का सेवन करें. अनार के छिलकों को सुखा लें और इसे पीसकर चूर्ण बना लें.

अब सुबह-शाम इस चूर्ण का सेवन पानी के साथ करें.अगर चाहें तो इसका पेस्ट भी बना सकते हैं.

Leave a Reply