पानी पीने के तरीके और नियम यहाँ जानें

हेल्थ टिप्स इन हिंदी ब्लॉग में आज आपको बेहद जरूरी विषय पर जानकारी मिलेगी आज हम बात करेंगे पानी पीने के तरीके और पानी पीने के नियम के बारे में कि किस तरह से आपको पानी पीना चाहिए और कब पीना चाहिए और कब नहीं पीना चाहिए इन तमाम बिंदुओं पर इस पोस्ट में आपको जानकारी मिल जाएगी. अंत तक पूरी पोस्ट जरुर पढ़े और अगर आपको यह जानकारी उपयोगी लगे तो उसको अपने दोस्तों के बीच Facebook पर जरूर शेयर कीजिए.

पानी पीने के तरीके और नियम – Water Drinking Tips In Hindi

पोस्ट की हेडलाइन पानी पीने के तरीके और नियम पढ़कर आपको हैरानी हो रही होगी क्या भला पानी पीने का भी कोई तरीका होता है? लेकिन यहां हम आपको बता दें की यह बात बिल्कुल सही है लगभग 90% लोग गलत तरीके से पानी पीते हैं और ऐसा करने से उनके स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ता है आज इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको पता चल जाएगा.

यहां आपको जो पानी पीने के तरीके और नियमों के बारे में जानकारी दी जा रही है यह आयुर्वेद पर आधारित है और आपकी जानकारी के लिए बता दें कि महर्षि महर्षि वाघ भट्ट 100 से भी ज़्यादा ऐसे रोगों की खोज की थी जो भोजन के बाद तुरंत पानी पीने से रोग उत्पन्न होते हैं.

दांतों का पीलापन कैसे दूर करें यहाँ जानें

आयुर्वेद नियमों के अनुसार भोजन के तुरंत बाद पानी पीना जहर के समान है क्योंकि ऐसा करने से शरीर की जठराग्नि समाप्त हो जाती है. जठराग्नि से मतलब यानी कि जो आप भोजन करते हैं उस भोजन को शरीर में पचने के बाद जठराग्नि ही उसे ऊर्जा (Energy) के रुप में बदलती है जिससे कि आपको जिससे आपके शरीर को मुख्य उर्जा मिलती है.

अक्सर देखा जाता है कि ज्यादातर लोग खाना खाने के तुरंत बाद खूब सारा पानी पीते हैं जो की आयुर्वेद की दृष्टि से सरासर गलत प्रक्रिया है इसलिए ध्यान रखें जब भी आप खाना खाएं तो उसके तुरंत बाद पेट भरकर पानी बिल्कुल ना पिएं, मुंह साफ करने के लिए एक घूंट पानी पी लें और तकरीबन आधे से 1 घंटे के बाद आप पानी पीजिए. ऐसा करने से आपने जो भोजन किया है वह बहुत जल्दी पचेगा, पाचन क्रिया अच्छी बनी रहती है और और आपके शरीर की जठराग्नि भी बहुत अच्छे से काम करेगी और खाया पिया आपको अच्छी तरह से अंग लगेगा.

कुछ रोचक जानकारियां क्या आपको पता हैं ?

अगर हो सके तो आप इस नियम को भी जरूर अपनाएं खाना खाने से लगभग आधा घंटा पहले पानी पिएं न कि भोजन शुरू करने के तुरंत पहले और खाना खाने के तुरंत बाद आप एक दो घूंट जो पानी पिए वह ठंडा नहीं होना चाहिए वह सामान्य या फिर हल्का गुनगुना हो तो ज्यादा बेहतर रहेगा.

अगर सुबह का नाश्ता करने के तुरंत बाद आपको बहुत तेज पानी की कमी महसूस हो रही हो या प्यास लगी हो तो उसके लिए अगर संभव हो तो आप संतरे या मोसम्बी या किसी और फलों के जूस को पी सकते हैं. और अगर दोपहर का भोजन करने के बाद आपको प्यास ज्यादा लग रही है तो खाने के तुरंत बाद आप दही की लस्सी या छाछ भी पी सकते हैं. और रात में खाने के तुरंत बाद दूध भी लिया जा सकता है ऐसा करने से हमारे शरीर में कोई भी नुकसान होने की संभावना नहीं रहती क्योंकि यह भोजन को पचाने में मददगार होते हैं.

पानी पीने के तरीके जब भी पानी पिए तो जिस तरह से हम लोग चाय कॉफी पीते हैं एक-एक घुट कर कर उसको पिएं, न की एकदम से एक ही सांस में सारा गिलास खत्म कर दें और जितना हो सके फ्रिज का या RO का फिल्टर किया हुआ पानी इस्तेमाल न करें क्योंकि बोतलबंद पानी पीने से क्या नुकसान हो सकते हैं आप हमारी इस पोस्ट में पढ़ सकते हैं. आर ओ का पानी पीने के नुकसान

तांबे का एक पात्र (बर्तन) लीजिए और रात में इस में पानी भरकर रख दीजिये और सुबह उठकर नहार मुंह एक एक घूंट करके थोड़ा-थोड़ा करके इस पानी को पीजिए. 90 दिन तक ऐसा करने से आपके शरीर में चमत्कारिक रूप से परिवर्तन आएगा और ये आपके शरीर को रोगप्रतिरोधक बनता है. और साथ ही अगर आपको किसी भी तरह का चर्म रोग है जैसे के कील, मुहांसे या फोड़े फुंसी होते हैं तो इस रोग में भी आपको तांबे के बर्तन में रखा हुआ पानी पीने से बहुत फायदा मिलता है.

तांबे के बर्तन में रखे हुए पानी को पीने से वह ठीक उसी प्रकार से काम करता है जैसा आपने पहले कहीं सुना होगा कि पानी को पहले उबालें और ठंडा हो जाए तब उसको पिएं. अगर आप तांबे के बर्तन में पानी रखते हैं तो आपको उस पानी को उबलने की जरूरत नहीं है क्योंकि उसमे वह सभी गुण आ जाते हैं जो आपको पानी को उबालकर ठंडा करने के बाद मिलते हैं.

तांबे के रखे हुए बर्तन का पानी पीने से आपके चेहरे पर भी निखार आता है. और चेहरे पर निखार लाने के लिए आप हमारी इस पोस्ट को भी पढ़ सकते हैं बेदाग स्किन पाने के घरेलू नुस्खे यहां इस पोस्ट में आप को घरेलू नुस्खों द्वारा चेहरे पर कैसे निखार लाएं इसकी पूरी जानकारी मिल जाएगी.

स्वस्थ रहने के उपाय – जानें अपनी सेहत का राज़

आयुर्वेद के नियमों के अनुसार जब आप पानी पी रहे हों तो वह आपके शरीर के तापमान से अधिक ठंडा नहीं होना चाहिए क्योंकि अक्सर गर्मियों में या तेज उमस में कुछ लोग फ्रिज का ढेर सारा ठंडा पानी पी लेते हैं और अपने शरीर को तृप्त कर लेते हैं लेकिन जाने अनजाने में उन्हें यह नहीं पता कि अपने शरीर के  तापमान से अधिक ठंडा पानी पीकर उन्होंने अपने शरीर को कितनी क्षति पहुंचाई है.

कैसे चेक करें कि शहद शुद्ध है या मिलावटी

अगर आप लगातार तेज ठंडा पानी पीते हैं तो आपके शरीर में कुछ समय बाद कमजोरी आ जाती है और विभिन्न प्रकार की बीमारियों का कारण वह ठंडा पानी ही बनता है. जैसे कि हार्ट अटैक आना यह किडनी फेल हो जाना और ब्रेन हेमरेज जैसी बीमारियां होने का अंदेशा बना रहता है. और कई बार अधिकतर ठंडा पानी पीना आपके शरीर में कब्ज़ बनना भी इसका एक मुख्य कारण होता है. अगर आपके पेट में कब्ज का गैस बनती है तो आप हमारी यह पोस्ट कर सकते हैं गैस की समस्या का इलाज कैसे करें

जब आप ठंडा पानी पीते हैं तो इससे आपकी बड़ी आंत सिकुड़ जाती है और ऐसा होना आपके लिए कई समस्याएं पैदा कर सकता है और इसी तरह से यह बात ठंडे पानी की तरह अन्य खाद्य पदार्थों पर भी सामान्य रूप से लागू होती है. इसलिए जितना हो सके उतना तेज ठंडे खाद्य पदार्थों का सेवन ना करें तो शारीरिक दृष्टि से यह आपके लिए बहुत बेहतर रहेगा.

पानी पीने के तरीके – नियम तो बहुत सारे हैं लेकिन यहां कुछ मुख्य बिंदुओं पर चर्चा की गई है दोस्तों अगर आपको यह पोस्ट आपको पसंद आयी हो तो कृपया इसे अपने फेसबुक प्रोफाइल पर आप जरुर शेयर कीजिए जिससे आपकी मित्र सूची के लोग भी इस बहुमूल्य जानकारी को पढ़ सकें. हेल्थ टिप्स इन हिंदी ब्लॉग पर अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत आभार.